इतिहास

करनाल शहर, महाभारत के प्रसिद्ध राजा कर्ण द्वारा स्थापित किया गया था। सन् 1739 में करनाल प्रमुखता से असित्तव मे आया जब नादिर शाह ने करनाल में मुहम्मद शाह को हराया था। जीन्द के राजा गोपाल सिंह ने 1863 में करनाल पर कब्जा कर लिया था और 1785 में मराठों ने करनाल में खुद को स्थापित किया था। हालांकि, मराठा और सिखों के बीच मुठभेड़ होती रहती थी। 1795 में, मराठों ने अंत में जीन्द के राजा भाग सिंह से करनाल शहर को जीत लिया और इसे जॉर्ज थॉमस को सौप दिया जिन्होंने इस लड़ाई में भाग लिया। इस बीच लाडवा के राजा गुरदित सिंह ने करनाल पर कब्जा कर लिया। 1805 में अंग्रेजों ने यहा पर कब्जा कर लिया था और मंडल बनाया। करनाल को ब्रिटिश छावनी में तबदील कर दिया गया और जीन्द के राजा गजपत सिंह द्वारा निर्मित किले पर कब्जा कर उसे काबुल के आमिर दोस्त मोहम्मद खान के घर में परिवर्तित कर दिया। इस किले का उपयोग जेल के रूप में, घूडसवार सेना के क्वार्टर और गरीब घर के रूप में किया गया। 1862 में, इसे शिक्षा विभाग के ऊपर बनाया गया था, जब जिला स्कूल शहर से इसे स्थानांतरित किया गया था।

ऐतिहासिक स्थल

कलंदर शाह की दरगाह

कलंदर शाह की दरगाह शहर के बाहर ही स्थित है। कब्र संगमरमर से बनी और इस पर नक्काशी की गई है। इस कब्र को दिल्ली के सम्राट गियास-उद-दीन, एक प्रसिद्ध मुस्लिम संत और ऋषि बो-अली-कलन्दर शाह की याद में बनाई गई थी, जिन्होंने अपनी सोच से सबको प्रभावित किया था और सभी समुदायों को व्यापक रूप से सम्मानित किया था। बाड़े के भीतर मस्जिद और फव्वारे के साथ एक जलाशय है।

सीता माई मंदिर

करनाल के पास सीतामई गांव में स्थित एक प्राचीन मंदिर में अद्वितीय विशेषताएं हैं। यह शायद भारत में देवी सीता का एकमात्र मंदिर है। किंवदंती के रूप में, यह कहा जाता है कि सीता माई मंदिर वही स्थान है जहां मां पृथ्वी ने देवी सीता माता को निगल लिया जबकि उसे अपनी पवित्रता साबित करनी थी।यह मंदिर पूरे मूर्ति को कवर करने के लिए विस्तृत सजावट के साथ ईंटों से बना है।