जिला राजस्व अधिकारी

जिले में तहसीलदार, नायब तहसीलदार और उप-रजिस्ट्रार के काम के निरीक्षण करने के लिए जिला राजस्व अधिकारी जिला उपायुक्त की सहायता करते है। उचित जांच और राजस्व अधिकारियों के काम की सुचारु कार्य के लिए सात शाखाएं हैं, सदर कनूनो, बाढ़ शाखा, जिला राजस्व लेखा शाखा, शीर्ष पंजीकरण शाखा, प्रतिलिपि एजेंसी, वर्नाकुलर रिकॉर्ड रूम और लघु मील शाखा जो काम करते हैं। जिला राजस्व अधिकारी, करनाल को उन विभागों के भूमि अधिग्रहण करने का कार्य सौंपा गया है जहां कोई अलग भूमि अधिग्रहण अधिकारी उपलब्ध नहीं है। जिला राजस्व अधिकारी, करनाल डिप्टी कमिश्नर, करनाल के कार्यालय की प्रत्येक शाखा की गतिविधियों और उपलब्धियां निम्नानुसार हैं: –

सदर कनूनो शाखा

इस शाखा का मुख्य कार्य, स्वामित्व और खेती के संबंध में भूमि का रिकॉर्ड रखना है। इस कार्य के लिए, भूमि रिकॉर्ड का एक रिकार्ड कक्ष है जहां इस पूरे जिले की जमाबंदी को रखा गया है। इतना ही नहीं, चकबन्दी के समय चकबन्दी कर्मचारियों द्वारा तैयार मुसावी को भी इस रिकार्ड रूम में रखा गया है।

जिला राजस्व लेखा शाखा

इस शाखा का कार्य, सरकार की वसूली के खातों को बनाए रखना है, बकाया अर्थात् अन्य सरकार की भूमि राजस्व, दर और बकाया विभाग बोर्ड, निगम और बैंक आदि इसके अलावा, यह शाखा नाजुल भूमि से आवंटन और पट्टे पर काम करने का भी काम करती है।

शीर्ष पंजीकरण शाखा

यह शाखा रजिस्ट्रार स्तर पर पंजीकरण के काम से संबंधित है और उप-रजिस्ट्रार द्वारा किए गए कार्य की जांच भी करती है। इस ब्रांच में पंजीकरण का पुराना रिकॉर्ड भी उपलब्ध है। अगर कोई रिकार्ड की प्रति लेना चाहता है तो उसे प्रति प्राप्त हो सकती है।

बाढ़ शाखा

इस शाखा का मुख्य कार्य बाढ़ और अन्य प्राकृतिक आपदाओं को नियंत्रित करना है। संकट के समय, यह शाखा राहत उपकरण और प्रशिक्षित कर्मियों को सीधे सहायता जनता को प्रदान करता है। बाढ़, सूखापन, घर पतन आदि जैसे प्राकृतिक आपदाओं से पीड़ित लोगों के बारे में जानकारी सरकार के ध्यान में लाई गई है। इस ब्रांच के माध्यम से जिला राजस्व अधिकारी करनाल के माध्यम से सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गई राहत सामग्री पीड़ितो के बीच वितरित की जाती है।

नकल शाखा

इस शाखा का मुख्य कार्य राजस्व रिकार्ड में रिाकार्ड किये गये सार्वजनिक दस्तावेजों की प्रमाणित प्रतियां प्रदान करना है।

लाई-माई शाखा

इस ब्रांच के कार्य निम्न आय या मध्यम आय वर्ग वाले व्यक्ति को घर के निर्माण के लिए नाममात्र ब्याज पर ऋण के रुप में वित्तीय सहायता प्रदान करना है। यह ब्रांच का मुख्य कार्य पिछले वर्ष में, कोई राशि वितरित की या नहीं की गई थी का मिलान करना भी है।