रुचि के स्थान

कलंदर शाह मकबरा

कलंदर शाह की दरगाह शहर के बाहर  स्थित है। कब्र संगमरमर से बनी  है और इस पर नक्काशी की गई है। इस कब्र को दिल्ली के सम्राट गियास-उद-दीन, एक प्रसिद्ध मुस्लिम संत और ऋषि बो-अली-कलन्दर शाह की याद में बनाई गई थी, जिन्होंने अपनी सोच से सबको प्रभावित किया था और सभी समुदायों को व्यापक रूप से सम्मानित किया था। बाड़े के भीतर मस्जिद और फव्वारे के साथ एक जलाशय है।

सीता माई मदिंर

करनाल के पास सीतामाई गांव में स्थित यह एक प्राचीन मंदिर है जिसमे अद्वितीय विशेषताएं हैं। भारत में शायद यह देवी सीता का एकमात्र मंदिर है। पौराणिक कथा के अनुसार यह कहा जाता है कि सीता माई मंदिर वही स्थान है जहां माता पृथ्वी ने देवी सीता माता को निगल लिया जब उन्होने अपनी पवित्रता साबित करनी थी। यह मंदिर पूरे मूर्ति को कवर करने के लिए विस्तृत सजावट के साथ ईंटों से बना है। यह निलोखेडी से 19 किमी दूरी पर है।

मीरा साहिब मकबरा

यह कब्र एक संत सयाद मोहम्मद उर्फ मिरान साहिब की याद में बनाई गई है, जिनका 899 में निधन हो गया। उन्होने ब्राह्मण लड़की को एक राजा के चंगुल से आजाद करवाकर युद्ध में बचाव किया था। कब्र शहर के चरम दक्षिण की ओर स्थित है और साथ में यह एक छोटी मस्जिद और मंडल परिवार के कई सदस्यों का एक कब्रिस्तान है।

गुरुद्वारा मंजी साहिब

यह गुरुद्वारा बो अली शाह कलंदर के साथ गुरु नानक की बैठक की याद में बनाया गया है।

गोंदर (गौतम ऋषि)

ऐसा कहा जाता है कि करनाल से 26 किलोमीटर की दूरी पर गांव गोंदर ऋषि गौतम द्वारा चंद्रमा को धब्बा और इन्द्र को 1000 आँखें दी गई है।

बहलोलपुर (पराशर सरोवर)

गांव बहलोलपुर के परिसर मे एक पराशर सरोवर था। जिसमे योद्धा दुर्योधन महाभारत के युद्ध के बाद छिप गया था। और अब यह भाग के इस क्षेत्र का मुख्य तिरथ मे से एक है।

अंजनथली

यहा एक मदिंर है जो हनुमान जी की माता अजंना को समर्पित है।

दरगाह नूरी

करनाल-कुंजपुरा रोड पर गांव नेवल में दरगाह नुरी है। यह दरगाह हजरत सूफी शाह अलामा नूर मोहम्मद दिल्ली की स्मृति में बनाई गई थी। और प्रबंधन समिति, गांव नेवल द्वारा इसकी देखभाल की जाती है।